उत्तराखंड से मेरे परिवार और आपका कुर्बानी का रिश्ता: राहुल गांधी

-प्रधानमंत्री मोदी पर राहुल ने बोला हमला, कहा-केंद्र सरकार हटेगी तो मिलेगा रोजगार
-देश को सबसे ज्यादा खून उत्तराखंड ने दिया
-उत्तराखंड में सरकार आएगी तो हम सभी वर्गो का रखेंगे ख्याल

देहरादून। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को विजय सम्मान रैली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर हमला बोलते हुए आगामी विधानसभा चुनाव का शंखनाद किया। राहुल गांधी ने कहा कि उत्तराखंड से मेरे परिवार और आपका कुर्बानी का रिश्ता है। उत्तराखंड के सैन्य परिवार इस रिश्ते को अच्छी तरह समझते हैं, जिसने कभी कुर्बानी नहीं दी वो इसे समझ नहीं सकते हैं। उत्तराखंड में कांग्रेस की सरकार आएगी तो हम सभी वर्गों का ख्याल रखेंगे। साथ ही युवाओं को रोजगार देने के अवसर भी पैदा होंगे।

कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने यहां परेड मैदान में 1971 में बांग्लादेश की पाकिस्तान पर विजय के अवसर पर हुई विजय सम्मान रैली में पूर्व सैनिकों के साथ सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और अन्य सैनिकों को पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इसके बाद राहुल गांधी ने 1971 युद्ध के वीर सपूतों के परिजनों को शॉल और प्रतीक चिह्न देकर सम्मानित किया।

राहुल गांधी ने अपनी यादों को साझा करते हुए कहा कि जब मैं छोटा था तो देहरादून के दून स्कूल में पढ़ा और मैं यहां आपके साथ दो तीन साल रहा। आपने उस समय मुझे बहुत प्यार दिया, उसे मैं भूला नहीं हूं। कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सरकार की नीतियों पर जमकर प्रहार किया। उत्तराखंड और अपने परिवार के बीच कुर्बानी का रिश्ता जोड़ते हुए कहा कि मेरे पिता और दादी ने इस देश के लिए अपना खून दिया। ठीक इसी तरह उत्तराखंड के हजारों परिवारों ने मातृभूमि के लिए बलिदान दिया है। ये बात उन लोगों को समझ नहीं आएगी, जिनके परिवारों ने ऐसी कुर्बानी नहीं दी है। राहुल गांधी ने कहा कि जब स्कूल में मुझे बताया गया कि इंदिरा गांधी को 32 गोलियां लगी हैं। कुछ वर्षों के बाद फोन आया कि पापा शहीद हो गए। आपके और मेरे बीच रिश्ता है। हम आपकी कुर्बानी समझते हैं। मैं वो दिन कभी नहीं भूल सकता। आज दिल्ली में बांग्लादेश विजय पर कार्यक्रम आयोजित हो रहा है और इंदिरा गांधी ने इस देश के लिए 32 गोलियां खाईं उनका नाम निमंत्रण पत्र तक में नहीं था।

दो-तीन पूंजीपतियों के लिए सरकार-
कांग्रेस नेता राहुल ने कहा कि आज देश को बांटा जा रहा है, कमजोर किया जा रहा है। एक भाई को दूसरे भाई से लड़ाया जा रहा है। पूरी सरकार दो-तीन पूंजीपतियों के लिए चलाई जा रही है। किसानों को कमजोर करने के लिए तीन कृषि कानून लाए गए थे। किसान एक साल तक डटे रहे, जिसके बाद प्रधानमंत्री ने माफी मांगी और कानून को वापस ले लिया। सरकार ने आपकी जेब से पैसा निकालकर दो-तीन पूंजीपतियों का कर्ज माफ किया। जब तक दिल्ली में नरेन्द्र मोदी की सरकार, है तब तक युवाओं को रोजगार नहीं मिल सकता है। आज महंगाई बढ़ती जा रही है। पेट्रोल के दाम बढ़ रहे हैं। नरेन्द्र मोदी ने आपकी जेब से पैसा निकालकर 10 करोड़ रुपए का अरबपतियों का कर्ज माफ किया है।

कांग्रेस की सरकार आएगी तो मिलेगा रोजगार-
राहुल ने कहा कि उत्तराखंड में हमारी सरकार आएगी तो हम छोटे और मध्यम वर्ग के लोगों को रोजगार देने का काम करेंगे। एक बार फिर यहां रोजगार के अवसर पैदा होंगे। सभी समस्याओं को दूर करने के लिए काम करेंगे।

गंगा स्नान को नहीं मिली इजाजत-
राहुल गांधी ने कहा कि गंगा में कई लोगों ने स्नान किया, लेकिन ऐसा दिखाया जाता है कि इतिहास में एक ही व्यक्ति ने आज तक गंगा में स्नान किया है। योगी जी, राजनाथ तक को इजाजत नहीं दी गई।

दिल्ली से मोदी सरकार के हटे बिना नहीं मिलेगा रोजगार-
कांग्रेस नेता ने कहा कि जब तक मोदी की सरकार दिल्ली से नहीं हटेगी, तब तक युवाओं को रोजगार नहीं मिलेगा। इंफ्रास्ट्रक्चर, रेलवे, एयरपोर्ट, माइंस सब कुछ दो-तीन उद्योगपतियों के हाथों में है। आप लिखकर ले लो देश अपने युवाओं को रोजगार नहीं दे पाएगा। कोरोना में पूंजीपतियों का टैक्स माफ किया गया, लेकिन मजदूरों को बस या रेल का टिकट तक नहीं मिला। ये मत सोचिए देश मजबूत हो रहा है। देश मजबूत तब होता है, जब देश का नागरिक मजबूत होता है। जब देश की जनता बिना डके, झिझके काम कर सकती है। जब जनता बिना डरे बोल सकती है।

देश को कमजोर किया जा रहा है-
राहुल गांधी ने कहा कि किसानों के खिलाफ तीन कृषि कानून उन्हें खत्म करने के लिए बनाए गए। किसान पीछे नहीं हटे। एक साल बाद प्रधानमंत्री हाथ जोड़कर कहते हैं कि गलती हो गई। माफी मांगता हूं। किसान शहीद हुए उनके बारे में भाजपा के नेता संसद में कहते हैं कि कोई किसान शहीद नहीं हुआ। सरकार ने किसानों को मुआवजा तक नहीं दिया। किसके लिए काम किया जा रहा था। ये साजिश थी। ये काम दो-तीन उद्योगपतियों के लिए किया जा रहा था।

एकजुटता से 13 दिनों में पाकिस्तान पर हुई जीत-
राहुल गांधी ने कहा कि आज देश को बांटा जा रहा है, कमजोर किया जा रहा है। एक भाई को दूसरे से लड़ाया जा रहा है। हिन्दुस्तान ने 13 दिन में पाकिस्तान को हरा दिया। एक तरफ हिन्दुस्तान एक होकर, एक आवाज बनकर, सब मिलकर खड़े हुए हैं। सेना, वायुसेना या नौसेना ने ही नहीं बल्कि हिन्दुस्तान के हर व्यक्ति ने, हर जाति और धर्म ने मिलकर पाकिस्तान को हराया। लाखों परिवार ने बिना मांगे अपने घर का सोना हिन्दुस्तान की सरकार को दे दिया। अगर हिन्दुस्तान के लोग लड़ रहे होते तो 13 दिन में जीत नहीं मिलती।

अपनों को खोना क्या होता है?
रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि कुछ दिन पहले हेलिकॉप्टर क्रैश में सीडीएस जनरल बिपिन रावत शहीद हो गए। उन्हें हम आज याद करते हैं। जब मैं यहां आ रहा था तो मैं सोच रहा था कि मेरा उत्तराखंड से क्या रिश्ता है तो याद आया कि मैं दून स्कूल में पढ़ा करता था। आपने उस समय मुझे बहुत प्यार दिया। मेरे परिवार और उत्तराखंड का एक पुराना रिश्ता है। मेरा और आपका कुर्बानी का रिश्ता है। मेरी दादी और पिता ने इस देश के लिए अपना खून दिया है। पिता को खोना, भाई को खोना आप लोग जानते हो, समझते हो। जिन परिवारों ने इस कुर्बानी को नहीं दिया वो इसका मतलब नहीं समझेंगे।

सीडीएस जनरल बिपिन रावत के लिए रखा गया मौन-
परेड ग्राउंड में दिवंगत सीडीएस जनरल बिपिन रावत को श्रद्धांजलि देते हुए दो मिनट का मौन रखा गया है। सीडीएस रावत, उनकी पत्नी और ग्यारह अन्य सैन्य अधिकारी तमिलनाडु के कुन्नूर में हेलीकाप्टर दुर्घटनाग्रस्त में शहीद हो गए थे।

Comments are closed.