पिछली सरकार के भ्रष्टाचार का इत्र सामने आ रहा है: प्रधानमंत्री मोदी

कानपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को पूर्व की समाजवादी सरकार पर तीखा हमला करते हुये कहा कि पिछली सरकार ने भ्रष्टाचार का जो इत्र फैला कर रखा था, वह अब छन-छन कर सामने आ गया है। दो दिन पूर्व कानपुर के इत्र कारोबारी पीयूष जैन के घर से लगभग 200 करोड़ रुपये की नगदी की बरामदी की तरफ संकेत करते हुये उन्होंने अपनी बात कही।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जो नोट मिले हैं, उसके बाद भी वे कहेंगे कि हमने यह किया है। पूरे उप्र में भ्रष्टाचार की सुगबुगाहट फैल रही थी। अब वे चुप हैं। नोटों का पहाड़ जो पूरे देश ने देखा है, यही उनकी उपलब्धि और हकीकत है।

जनसभा को संबोधित करते हुये आगे उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में पहले जो सरकारें रहीं, उन्होंने माफियावाद का पेड़ इतना फैलाया कि उसकी छांव में सारे उद्योग-धंधे चौपट हो गये। अब योगी जी की सरकार कानून और व्यवस्था का राज वापस लायी है। इसलिए उत्तर प्रदेश में अब निवेश भी बढ़ रहा है। अपराधी अपनी जमानत खुद रद्द करवा कर जेल जा रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी 11,000 करोड़ रुपये की कानपुर मेट्रो रेल परियोजना और 1500 करोड़ रुपये की बीना-पनकी मल्टीप्रोडक्ट पाइपलाइन परियोजना के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुये कहा कि आज उप्र के विकास में एक और सुनहरा अध्याय जुड़ रहा है। आज कानपुर मेट्रो कनेक्टिविटी के साथ ही बीना रिफाइनरी से भी कनेक्ट हो गया है।

प्रधानमंत्री ने पूर्व सरकारों पर केवल चुनिंदा क्षेत्रों में ही विकास कार्य करने को लेकर कहा कि असंतुलित विकास को कायम नहीं रखा जा सकता। हमारी सरकार ‘सबका साथ, सबका विकास’ के सिद्धांत पर काम करती है। उन्होंने कहा कि दशकों तक हमारे देश में यह स्थिति रही कि एक हिस्सा का तो विकास हुआ, दूसरा पीछे ही छूट गया। राज्यों के स्तर पर, समाज के स्तर पर इस असमानता को दूर करना उतना ही जरूरी है।

प्रधानमंत्री ने पूर्व सरकारों पर समय को महत्व नहीं देने को लेकर निशाना साधते हुये कहा कि उप्र का विकास उनकी प्राथमिकता नहीं थी। केंद्र और उत्तर प्रदेश में भाजपा के नेतृत्व वाली डबल इंजन की सरकार उप्र में बीते कालखंड में हुये समय के नुकसान की भरपाई में जुटी है। उन्होंने कहा कि हम डबल स्पीड से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारें यह सोचती थी कि उन्हें राज्य को लूटने के लिये पांच साल के लिये लूट की लॉटरी लगी है। अब यह धारणा बदल गयी है। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि 2014 से पहले उत्तर प्रदेश में केवल 9 किलोमीटर मेट्रो ट्रेन बिछी थी। अब उसकी लंबाई 90 किलोमीटर से अधिक हो गयी है।

परियोजना का श्रेय लेने के बाबत विपक्ष पर निशाना साधते हुये प्रधानमंत्री ने कहा कि डबल इंजन की सरकार जिस काम का शिलान्यास करती है, उसे पूरा करने के लिए दिन रात एक कर देती है। कानपुर मेट्रो का शिलान्यास भी उनकी ही सरकार ने किया और आज इसका लोकार्पण भी कर रही है। प्रधानमंत्री ने इस संबंध में पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का भी उदाहरण दिया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.