हेमंत सरकार की दूसरी सालगिरह पर गुलजार हुआ मोरहाबादी मैदान

रांची। हेमंत सरकार के द्वितीय वर्षगांठ के उपलक्ष्य में बुधवार को रांची के मोरहाबादी मैदान में राज्यस्तरीय समारोह का आयोजन किया गया। इस दौरान पूरा मोरहाबादी मैदान परिसर होर्डिंग, बैनर, पोस्टर से पटा रहा। मोरहाबादी मैदान में जाने के लिए कई प्रवेश द्वार बनाये गये थे। मुख्य कार्यक्रम स्थल पर पहुंचने के लिए पांच तोरणद्वार बनाये गये थे।

दूसरी ओर मोरहाबादी मैदान में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सहित विभिन्न विभागों के मंत्रियों के पोस्टर बैनर भी लगाये गये थे। इसमें विभिन्न विभागों की योजनाओं का जिक्र था। पूर मोरहाबादी मैदान परिसर पोस्टर और बैनर से पटा रहा। मुख्य कार्यक्रम स्थल पर छोटे और बड़े मिलाकर कुल दस एलईडी स्क्रीन लगाये गये थे ताकि कार्यक्रम को देखने और सुनने में किसी को परेशानी नहीं हो। इस दौरान वहां रखी सभी कुर्सियां भर गयी थी। कार्यक्रम स्थल पर पहुंचने वालों की जांच की जा रही थी। बिना जांच के किसी को अंदर नहीं जाने दिया जा रहा था। बिना मास्क के किसी को प्रवेश नहीं करने दिया जा रहा था।

कार्यक्रम स्थल पर कोविड गाइडलाइन का पालन, बाहर उड़ी धज्जियां
हेमंत सरकार के द्वितीय वर्षगांठ के अवसर पर मुख्य कार्यक्रम स्थल में लोग कोविड गाइडलाइन का पालन करते नजर आये लेकिन कार्यक्रम के बाहर लोग इसकी धज्जियां उड़ाते नजर आये। कार्यक्रम में पहुंचे लोग बाहर निकल गये और बिना मास्क के काफी संख्या में घूमते नजर आये। कार्यक्रम स्थल पर पहुंचने वालों को सुरक्षाकर्मी मास्क लगाने के लिए बोलते रहे।

आधा घंटे देर से शुरू हुआ कार्यक्रम
मोरहाबादी मैदान में बुधवार को मुख्य कार्यक्रम आधे घंटे की देरी से शुरू हुआ। कार्यक्रम 12 बजे से शुरू होना था लेकिन 12.30 बजे शुरू हुआ। कार्यक्रम शुरू होने के बाद कुर्सियां भरी। इसके बाद कार्यक्रम में पहुंचे अधिकतर लोग बाहर निकल गये।

मोरहाबादी मैदान की सभी दुकानें रहीं बंद
हेमंत सरकार के द्वितीय वर्षगांठ के अवसर पर मोरहाबादी मैदान में मुख्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इस दौरान वहां की सभी दुकानों को जिला प्रशासन की ओर से बंद करा दिया गया था। सभी दुकानें बंद थी। कार्यक्रम स्थल के अलावा मोरहाबादी मैदान में सिर्फ पुलिसकर्मी ही नजर आये।

वैक्सीनेशन सेंटर लगाया गया
हेमंत सरकार के द्वितीय वर्षगांठ के अवसर पर मुख्य कार्यक्रम स्थल के समीप सदर अस्पताल और केयर इंडिया के तत्वावधान में वैक्सीनेशन सेंटर भी लगाया गया था। इस दौरान लगभग पांच सेंटर बनाये गये थे। यहां पर कोवैक्सीन और कोविशिल्ड का प्रथम और द्वितीय डोज दिया जा रहा था। इन सेंटरों पर लगभग 300 से अधिक लोगों ने वैक्सीन लगवाया। इनमें युवा, बुजुर्ग, महिलाएं आदि शामिल थीं।

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम
हेमंत सरकार के द्वितीय वर्षगांठ के अवसर पर पूरे मोरहाबादी मैदान को छावनी में तब्दील कर दिया गया था। इस दौरान सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम था। काफी संख्या में पुलिस के जवानों को तैनात किया गया था। इस दौरान सिटी एसपी सौरभ कुमार, ग्रामीण एसपी नौशाद आलम सहित वरीय पुलिस पदाधिकारी लगातार सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेते नजर आये।

झामुमो नेताओं में उत्साह
हेमंत सरकार के द्वितीय वर्षगांठ के मुख्य कार्यक्रम स्थल पर झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) कार्यकर्ताओं में गजब का उत्साह देखने को मिला। झामुमो कार्यकर्ता बार बार जय झारखंड के नारे लगा रहे थे। रांची ही नहीं आसपास के जिलों से भी लोग कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे थे। दूसरी ओर कांग्रेस और राजद के कार्यकर्ता काफी कम नजर आए।

विभिन्न विभागों ने लगाये स्टॉल
कार्यक्रम स्थल पर विभिन्न विभागों की ओर से स्टॉल भी लगाये गये थे। यहां पर पशुपालन विभाग, कृषि, स्वास्थ्य, ग्रामीण, शिक्षा आदि विभाग की ओर से स्टॉल लगाये गये थे। यहां आने वाले लोगों को विभाग से संबंधित जानकारी दी जा रही थी।

सीएम से मिलने पहुंचा था, नहीं मिल सका
कार्यक्रम स्थल में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से हटिया के संतोष प्रसाद सोनी मिलने पहुंचे थे लेकिन उन्हें सीएम से नहीं मिलने दिया गया। संतोष की पत्नी सुनीता ने बताया कि उनके पति चल नहीं सकते। उनके पीठ का नस दब गया है। वह मुख्यमंत्री से मिलकर इलाज के लिए सहायता राशि मांगने जा रहे थे लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें अंदर नहीं जाने दिया। हालांकि, बाद में रांची झामुमो के जिलाध्यक्ष मुस्ताक आलम ने संतोष प्रसाद को रिम्स में इलाज के लिए टेम्पो से भिजवा दिया।

आर्मी ग्राउंड में बनाया गया था पार्किंग
कार्यक्रम में आने के लिए विभिन्न जिलों से बसों में बैठ कर लोग रांची पहुंचे थे। दूसरी ओर जिलों से आने वाले बसों की पार्किंग के लिए आर्मी ग्राउंड में जगह बनायी गयी थी। यहां पर लोग अपने वाहनों को खड़ा कर रहे थे।

बिना पास के वाहनों की इंट्री नहीं
कार्यक्रम स्थल पर जाने के लिए काफी संख्या में लोग अपने अपने वाहनों से पहुंचे थे लेकिन बड़े वाहनों का प्रवेश निषेध था। इस दौरान जिनके पास कार पास था उन्हें ही मोरहाबादी मैदान स्थित कार्यक्रम स्थल पर जाने दिया जा रहा था। बिना पास के चार पहिया वाहनों को नहीं जाने दिया जा रहा था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.