प्रधानमंत्री नरेन्द मोदी ने दी उत्तराखंड को 17,000 करोड़ की सौगात

हल्द्वानी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज हल्द्वानी में उत्तराखंड खासकर कुमाऊं को करोड़ों रुपये की परियोजनाओं की सौगात दी। उन्होंने हाइवे और पुलों का शिलान्यास और लोकार्पण किया। प्रधानमंत्री मोदी ने पिथौरागढ़ में मेडिकल कालेज और किच्छा में एम्स के सेटेलाइट सेंटर का शिलान्यास, आलवेदर रोड पिथौरागढ़ से कनेक्ट का लोकार्पण किया।

शिलान्यास परियोजनाओं की सूची में अहम विद्युत परियोजनाएं भी शामिल हैं। इसके अलावा भविष्य में नेपाल से सटे क्षेत्र में सड़कों का जाल बिछाने की तैयारी है। ताकि दो देशों के बीच कारोबार में और आसानी हो। लोकार्पण और शिलान्यास सूची में साढ़े 17 हजार करोड़ से अधिक की 23 परियोजनाएं शामिल हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 3420 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण किया। इनमें नगीना से काशीपुर तक 99 किमी सड़क चोड़ीकरण। इसकी लागत 2536 करोड़ रुपये है। आलवेदर प्रोजेक्ट के तहत च्युरानी से ऐंकोली तक 32 कि.मी. सड़क का चौड़ीकरण। इसकी लागत 284 करोड़ रुपये है। आलवेदर प्रोजेक्ट के तहत बिलखेत से चम्पावत के बीच 29 कि.मी. सड़का चौड़ीकरण। इसकी लागत 267 करोड़ रुपये है। आलवेदर प्रोजेक्ट के तहत तिलन से च्युरानी तक 28 किलोमीटर का चौड़ीकरण। इसकी लागत 233 करोड़ रुपये है। सुरिनगाड़ में पांच मेगावाट की विद्युत परियोजना। इसकी लागत 50 करोड़ रुपये है। रामनगर और नैनीताल में नमामि गंगे प्रोजेक्ट के तहत एसटीपी प्लांट। इसकी लागत 50 करोड़ रुपये है।

उन्होंने इसके अलावा 14,127 करोड़ रुपये की योजनाओं का शिलान्यास किया। इनमें लखवाड़ बहुद्देश्यीय परियोजना शामिल है, जिससे बिजली उत्पादन होगा और सिंचाई को पानी भी मिलेगा। इसकी लागत 5747 करोड़ रुपये। 85.30 कि.मी. लंबे मुरादाबाद-काशीपुर फोरलेन निर्माण । इसकी लागत 4002 करोड़ रुपये है। प्रदेश के 13 जिलों में जल जीवन मिशन के तहत 1250 करोड़ रुपये के काम होंगे। 627 करोड़ की लागत से छोटी-बड़ी 133 सड़कों का डामरीकरण होगा। कुल लागत 1157 करोड़ रुपये है। ऊधमसिंह नगर के किच्छा में एम्स का सेटेलाइट सेंटर बनेगा। इसकी लागत 500 करोड़ रुपये है। पिथौरागढ़ में जगजीवन राम मेडिकल कालेज का निर्माण होगा। इसकी लागत 455 करोड़ रुपये है। 450 करोड़ की लागत से ग्रामीण क्षेत्रों में पीएमजीएसवाई के जरिये 151 पुलों का निर्माण किया जाएगा। जलापूर्ति योजना के तहत हरिद्वार और नैनीताल जिले में 1.20 लाख घरों में 24 घंटे पानी की आपूर्ति होगी। इसकी लागत 205 करोड़ रुपये है। नमामि गंगे कार्यक्रम के तहत ऊधमसिंह नगर में 199 करोड़ रुपये से एसटीपी का निर्माण होगा। ताकि नदियों को प्रदूषित होने से बचाया जा सके। एनएच 109 में सड़क संपर्क बढ़ाने पर 177 करोड़ रुपये खर्च होंगे। नेपाल बार्डर से सटा हाइवे होने से सामरिक महत्व भी है। पीएम आवास योजना के तहत काशीपुर के कनकपुर और सितारगंज के उकरौली में 171 करोड़ रुपये से 2424 आवास तैयार होंगे। नैनीताल जिले में 78 करोड़ रुपये की लागत से सीवर लाइन और एसटीपी प्लांट का निर्माण होगा। सितारगंज में 66 करोड़ रुपये की लागत से प्लास्टिक औद्योगिक पार्क का निर्माण होगा। इसमें बाद में 250 करोड़ रुपये निवेश के साथ 2500 लोगों को रोजगार का लक्ष्य भी रखा गया है। 58 करोड़ की लागत से मदकोटा से हल्द्वानी तक 22 कि.मी. हाइवे को चौड़ा किया जाएगा। किच्छा से पंतनगर के बीच 18 कि.मी. लंबे हाइवे का निर्माण होगा। इस पर 54 करोड़ रुपये खर्च होंगे। खटीमा बाइपास पर आठ कि.मी. लंबी टू लेन सड़क का निर्माण होगा। इसकी लागत 53 करोड़ रुपये है। कृषि उत्पादों को स्थानीय स्तर पर बाजार उपलब्ध कराने के लिए काशीपुर में एरोमा पार्क का निर्माण होगा। लागत 35 करोड़ रुपये होगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.