पहले सूरज डूबता था, तो कट्टा लहराने वाले सड़कों पर आ धमकते थे: प्रधानमंत्री मोदी

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में शनिवार को सूबे के सबसे लंबे ‘गंगा एक्सप्रेस-वे’ की आधारशिला रखते हुये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पिछली सरकार पर निशाना साधते हुये कहा कि पहले सूरज डूबते ही कट्टा लहराने वाले अपराधी सड़कों पर आ धमकते थे।

प्रधानमंत्री मोदी ने शाहजहांपुर में जनसभा को संबोधित करते हुये कहा कि योगी के नेतृत्व में सरकार बनने से पहले पश्चिम उप्र में कानून-व्यवस्था की स्थिति से आप भली-भांति परिचित हैं। पहले यहां कहते थे कि दिया बरे तो घर लौट आओ! क्योंकि सूरज डूबता था, तो कट्टा लहराने वाले सड़कों पर आ धमकते थे। प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में केंद्र और प्रदेश में भाजपा सरकार का लाभ बताते हुये कहा कि डबल इंजन की सरकार का फोकस उप्र के विकास पर है। सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास के मंत्र के साथ हम उप्र के विकास के लिए ईमानदारी से प्रयास कर रहे हैं।

उन्होंने पूर्व सरकार पर निशाना साधते हुये कहा कि पांच साल पहले राज्य के कुछ इलाकों को छोड़ दें तो दूसरे शहरों और गांव-देहात में बिजली ढूंढ़े नहीं मिलती थी। डबल इंजन की सरकार ने न सिर्फ उप्र में करीब 80 लाख मुफ्त बिजली के कनेक्शन दिये, बल्कि हर जिले को पहले से कई गुना ज्यादा बिजली दी जा रही है। आगे उन्होंने कहा कि उप्र में आज जो आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण हो रहा है, वो यह दिखाता है कि संसाधनों का सही उपयोग कैसे किया जाता है। पहले जनता के पैसे का क्या-क्या इस्तेमाल हुआ है, यह आप लोगों ने भली-भांति देखा है। लेकिन आज उत्तर प्रदेश के पैसे को उत्तर प्रदेश के विकास में लगाया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि गंगा एक्सप्रेस-वे पर 36 हजार करोड़ रुपये खर्च किये जा रहे हैं। इससे नये उद्योग और रोजगार सृजित होंगे। छह लेन वाला यह एक्सप्रेस-वे मेरठ के बिजौली गांव के निकट से शुरू होकर प्रयागराज के जुदापुर दांडू गांव तक जायेगा। यह परियोजना देश भर में तेज गति से कनेक्टिविटी प्रदान करने संबंधी प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण से प्रेरित है। गंगा एक्सप्रेस-वे उत्तर प्रदेश के 12 जिलों से होकर गुजरेगा, जो राज्य के पश्चिमी और पूर्वी क्षेत्रों को जोड़ेगा। 594 किलोमीटर लंबा गंगा एक्सप्रेस-वे के निर्माण में 36,200 करोड़ रुपये से अधिक की लागत का अनुमान है।

Comments are closed.