बाबा साहब डॉ भीमराव अंबेडकर समावेशी विकास के प्रबल पक्षधर थे : सुदेश महतो

रांची। आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो ने कहा कि बाबा साहब डॉ भीमराव अंबेडकर समावेशी विकास के प्रबल पक्षधर थे। उन्होंने स्वतंत्रता, समानता एवं बंधुत्व को विश्व के सबसे बड़े लिखित संविधान का आदर्श बनाया। पूरे विश्व को सामाजिक समानता का रास्ता दिखाने वाले बाबा साहेब एक साधारण परिवार में पैदा हुए लेकिन अपनी प्रतिभा और आत्मविश्वास के बल पर उन्होंने अपने जीवन को ऐसा बनाया कि हर कोई उनसे प्रेरणा ले सकता है। महतो सोमवार को सिल्ली स्थित अंबेडकर पार्क में बाबा साहेब के महापरिनिर्वाण दिवस के अवसर पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा में बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि सामाजिक न्याय के अग्रदूत भीमराव अंबेडकर ने एक ऐसे समाज की कल्पना की थी, जहां सबको समान अधिकार एवं नीति-निर्णय में समान भागीदारी मिले। उन्होंने समाज के सबसे निचले पायदान पर खड़े लोगों की सामाजिक, आर्थिक, शैक्षणिक एवं राजनैतिक उन्नति की कल्पना की थी, लेकिन अब भी बाबा साहेब का सपना अधूरा है। हमारे ऊपर उनके सपनों को साकार करने का दायित्व है और हम इसके लिए कृतसंकल्पित हैं। इस अवसर पर जिप सदस्य गौतम साहु, सुशील महतो, संजय सिद्धार्थ, विकास महतो, लखिंद्र रविदास, ललन कुमार इत्यादि मुख्य रूप से उपस्थित थे। रांची स्थित केंद्रीय कार्यालय में भी श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। सभा को संबोधित करते हुए आजसू प्रवक्ता देवशरण भगत ने कहा कि सामाजिक न्याय के बगैर विकास अधूरा है।

Comments are closed.