जनप्रतिनिधियों को पेंशन देने का मामला संविधान के तहत : मुख्यमंत्री

-बारिश प्रभावित जिलों का सीएम ने किया एरियल सर्वे

पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज वैशाली, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, शिवहर, पूर्वी चंपारण, गोपालगंज एवं सारण जिले के अतिवृष्टि से प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण कर जायजा लिया।

एरियल सर्वे के बाद पटना पहुंचे सीएम नीतीश ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि महागठबंधन में टूट की बात आप लोगों के माध्यम से ही पता चली है। जहां तक सजायाफ्ता जनप्रतिनिधियों को पेंशन दिए जाने का मामला है कोई भी जनप्रतिनिधि रहा है, उनको जो संविधान के तहत ही मदद मिलती है वो दी जाती है, आप सबको मालूम है।

सीएम ने कहा कि विधानसभा की दो सीटों के उपचुनाव पर राजग पूरी मजबूती से चुनाव लड़ रही है। इस पर जनता को फैसला करना है। हम लोग कोई दावा नहीं करते हैं। बाकी कौन क्या बोलता है, किस भाषा का प्रयोग करता है आप सब जानते हैं। आप सबको मालूम है दोनों सीट जदयू ने जीती थी। इन दोनों सीटों के उपचुनाव के लिए राजग ने एक साथ उम्मीदवारों का चयन किया, आज उनका नामांकन हो गया है। सब लोग आपस में मिलकर सहयोग कर रहे हैं। जनता मालिक है वो फैसला करेगी। लालू प्रसाद के चुनाव प्रचार से संबंधित पूछे गए सवाल के बारे में मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी अपनी इच्छा है वो जो करें।

बारिश के कारण लोगों को हुए नुकसान पर दी जाएगी सहायता
सीएम कहा कि अक्टूबर माह में भी बारिश की ऐसी स्थिति आयी है। अब माना जा रहा है कि बारिश की स्थिति घटेगी लेकिन इसके बाद भी अगर कहीं कोई समस्या उत्पन्न होती है तो लोगों की सहायता की जाएगी। अधिक बारिश की वजह से अनेक जगहों पर फसल बर्बाद हुई है और लोग प्रभावित हुए हैं। कुछ दिन पूर्व दो अक्टूबर को हमने पटना, नालंदा और नवादा जिले के प्रभावित इलाकों का सड़क मार्ग से जायजा लिया था।

उन्होंने कहा कि हमने आज वैशाली, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, शिवहर, पूर्वी चंपारण, गोपालगंज आदि जिलों हवाई सर्वेक्षण कर जायजा लिया है। पहले से भी इन क्षेत्रों के जो प्रभावित इलाके हैं उनकी भी जानकारी ली है। आज हम इसी संदर्भ में सभी संबद्ध जिलों एवं विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। उन्होंने कहा कि इसके पहले भी हमलोगों ने बाढ़ से प्रभावित इलाकों का आकलन किया था।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बाढ़ से फसल क्षति तथा जो फसल लगा नहीं सके उन सभी को दी जाने वाली सहायता को लेकर सबकुछ तय कर दिया गया है। सभी जिलों के प्रभारी मंत्रियों ने जिलों में जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक कर एक-एक चीज का एसेस्मेंट किया है। इधर, फिर अधिक बारिश शुरु हुई है, इससे लोग प्रभावित हुए हैं। आज होने वाली बैठक के पूर्व ही हमने सभी प्रभावित जगहों का आकलन करने का निर्देश दे दिया है।

उन्होंने कहा कि पहले से जो प्रभावित इलाके हैं उसके अलावा जो अब प्रभावित हुए हैं उन सबकी राहत एवं सहायता के लिए सब तरह से मदद की जाएगी। आपदा प्रबंधन को लेकर शुरू से हमलोग राहत के लिए काम करते आ रहे हैं। चार माह हम इन्हीं चीजों को लेकर पूरी तरह अलर्ट रहते हैं।

Comments are closed.