गांव की आवाज और गांव के सवाल कतई पीछे नहीं छूटें : सुदेश कुमार महतो

रांची। आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो ने कहा है कि जिस आम जन को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी देश की आवाज बनाना चाहते थे, वे बनकर रहे। गांधी के आदर्शों और मूल्यों को सामने रखकर हमारी मंशा भी एकदम स्पष्ट है कि गांव एवं गांव के सवाल कतई पीछे नहीं छूटे। पंचायत सम्मेलन के जरिए यही संकल्प गांठ बांधने होंगे।

सुदेश महतो रविवार को गांधी जयंती पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा सह पंचायत सम्मेलन में बोल रहे थे। गांधी जयंती के मौके पर आजसू पार्टी ने राज्य के सभी 4402 पंचायतों में सम्मेलन का आयोजन किया। इसमें राज्य, जिले और प्रखंड के पदाधिकारियों ने भी हिस्सा लिया। पार्टी प्रमुख ने सिल्ली के कोचों पंचायत से कार्यक्रम की शुरुआत की।

उन्होंने कहा कि पंचायत सम्मेलन महज एक कार्यक्रम नहीं है, यह कार्यकर्ताओं को इसका बोध कराए कि वे पार्टी में अगली कतार के प्रहरी हैं और गांव-गिराव की आवाज को जनता के सवालों को सत्ता सिस्टम तक पहुंचाने का सामर्थ्य रखते हैं। महात्मा गांधी के समग्र चिन्तन और दर्शन के केंद्र गांव रहे। स्वराज की अवधारणा में उन्होंने तय किया कि तरक्की की कसौटी पर वह आम आदमी होगा जो तमाम सुविधाओं से वंचित है। गांधी जयंती पर हमारा यही संकल्प है कि स्वराज, स्वशासन और स्वाभिमान की जो परिकल्पना उन्होंने की थी, वह साकार हो।

दो लाख लोगों के साथ संवाद, समितियों का गठन
पूरे राज्य में पंचायत सम्मेलन के दौरान करीब 15 हजार पदाधिकारियों ने दो लाख कार्यकर्ताओं एवं समर्थकों के साथ संवाद स्थापित किया। साथ ही सम्मेलन के दौरान पंचायत स्तर पर संगठन के विस्तार को लेकर कई महत्वपूर्ण निर्णय भी लिए गए। तथा पंचायत समिति का चुनाव कर अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, संगठन सचिव, कोषाध्यक्ष एवं कार्यकारिणी सदस्य का चयन भी किया गया। पंचायत सम्मेलन के जरिये आजसू पार्टी के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने पंचायतों की समस्याओं के साथ पंचायती राज व्यवस्था एवं इसकी जमीनी हकीकत को भी समझा। पंचायत सम्मेलन में आजसू पार्टी के विधायक, केंद्रीय पदाधिकारी तथा जिला एवं प्रखण्ड पदाधिकारी सहित अन्य नेता अलग-अलग पंचायतों में मौजदू रहे।

Comments are closed.