पिस्टल और राइफल से खेलने वाले भारतीय होनहारों ने लहराया परचम, गोल्डन निशाना साध बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

किसी की उम्र 20 साल तो किसी की महज 14 साल. लेकिन, हाथ में पिस्टल और राइफल थमा दो तो फिर इस भारतीय होनहारों का सानी कोई नहीं. शूटिंग रेंज भी किसी देश की हो, उस पर पक्का निशाना लगाकर दिखाते हैं ये भारत के युवा और अचूक निशानेबाज. पेरू की राजधानी लीमा में चल रहे जूनियर वर्ल्ड चैंपियनशिप में भारत के होनहार निशानेबाजों का जलवा लगातार जारी है. भारत अब तक इस चैंपियनशिप में अब तक 8 गोल्ड जीत चुका है, जिसमें बैक टू बैक गोल्ड उसे सोमवार को मिले. पहले नामया कपूर ने भारत के लिए गोल्डन निशाना लगाया फिर एश्वर्य प्रताप सिंह तोमर अपने राइफल से गोल्डन जीत के साथ वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया.

राइफल से खेलने वाले 20 साल के भारतीय निशानेबाज एश्वर्य प्रताप सिंह तोमर ने 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन लीमा में चल रहे ISSF जूनियर वर्ल्ड चैंपियनशिप में नए वर्ल्ड रिकॉर्ड के साथ सोना जीता है. एश्वर्य ने पहले 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन के क्वालिफिकेशन राउंड में वर्ल्ड रिकॉर्ड की बराबरी की थी. लेकिन फाइनल में उन्होंने उस वर्ल्ड रिकॉर्ड को तोड़ दिया. उन्होंने फाइनल में 463.4 अंक हासिल किए जो कि सिल्वर मेडल जीतने वाले फ्रांस के लुकास बर्नार्ड के मुकाबले 6.9 अंक ज्यादा थे.

14 साल की नामया का गोल्डन कमाल

इससे पहले सोमवार के दिन की शुरुआत भारत ने 14 साल की नामया कपूर की गोल्डन जीत के साथ की थी. उन्होंने महिलाओं के 25 मीटर पिस्टल इवेंट में देश के लिए गोल्ड मेडल जीता. नामया कपूर ने फाइनल मुकाबले में 36 अंक हासिल किए. जबकि फ्रांस की कैमिली 33 अंक लेकर दूसरे स्थान पर रहीं. इसी इवेंट में भारत की एक और युवा निशानेबाज मनु भाकर तीसरे नंबर पर रहीं. उन्होंने 31 अंकों के साथ ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया.

Comments are closed.