उत्तर कोरिया ने किया चौथा मिसाइल परीक्षण, दक्षिण कोरिया पर दबाव बनाने की कोशिश

उत्तर कोरिया ने शुक्रवार को कहा कि उसने एक नव विकसित विमान भेदी मिसाइल का परीक्षण किया है। हाल में किया गया यह उसका चौथा मिसाइल परीक्षण है। उत्तर कोरिया ने करीब छह महीने बाद सितंबर में एक बार फिर मिसाइल परीक्षण शुरू किया था, हालांकि वह दक्षिण कोरिया के साथ कुछ शर्तों पर बातचीत को तैयार है।

कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है ताकि वह अमेरिका को आर्थिक प्रतिबंधो में ढील और अन्य रियायतें देने के लिए राजी कर पाए। उत्तर कोरिया की आधिकारिक ‘कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी’ (केसीएनए) ने कहा कि विमान-रोधी मिसाइल परीक्षण ”विमान-रोधी मिसाइल प्रणाली के विभिन्न संभावित अध्ययन एवं विकास की दिशा में बहुत व्यावहारिक महत्व रखता है।

केसीएनए ने कहा कि परीक्षण का लक्ष्य लॉन्चर, रडार और युद्ध कमांड वाहन के संचालन की व्यवहारिकता के साथ-साथ मिसाइल की युद्धक क्षमता की पुष्टि करना था। दक्षिण कोरिया, जापान और अमेरिका आम तौर पर उत्तर कोरियाई मिसाइल के परीक्षण के तुरंत बाद सार्वजनिक रूप से इसकी पुष्टि करते हैं, लेकिन बृहस्पतिवार के परीक्षण के संबंध में ऐसी कोई जानकारी नहीं दी गई। यह दर्शाता है कि यह कोई प्रमुख परीक्षण नहीं था।

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने शांति स्थापित करने के लिए अक्टूबर के शुरू में दक्षिण कोरिया के साथ ‘हॉटलाइन’ बहाल करने की इच्छा व्यक्त की है, लेकिन उन्होंने वार्ता के अमेरिकी प्रस्ताव को यह कहकर फिर से ठुकरा दिया कि यह उत्तर कोरिया के खिलाफ शत्रुता को छुपाने का अमेरिका का ”कुटिल तरीका” है। उन्होंने एक बार फिर दक्षिण कोरिया से उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षणों और अन्य घटनाक्रम के लिए अपने ”दोहरे व्यवहार के दृष्टिकोण” और ”शत्रुतापूर्ण नजरिए” को छोड़ने की मांग की। वहीं, दक्षिण कोरिया ने कहा कि वह कई लंबित मुद्दों पर चर्चा करने और उन्हें हल करने के लिए आवश्यक ‘हॉटलाइन’ की बहाली को तैयार है।

Comments are closed.