गुजरात में दिखने लगा चक्रवात शाहीन का प्रभाव, कई इलाकों में भारी बारिश

– तटरक्षक बल ने समुद्र में गए मछुआरों को वापस आने का भेजा संदेश
– तटीय इलाकों में तटरक्षक बल के साथ एनडीआरएफ व एसडीआरएफ की टीेमें तैनात

अहमदाबाद। बंगाल की खाड़ी में हवा के कम दबाव से उठे चक्रवात गुलाब का असर थमा ही था कि अब कच्छ की खाड़ी से उठे चक्रवात शाहीन का खतरा बना गया है। पिछले 24 घंटों में दक्षिण गुजरात, सौराष्ट्र और मध्य गुजरात के विभिन्न हिस्सों में भारी बारिश हुई है। चक्रवात की चेतावनी के बाद राज्य के तटीय इलाकों में भारतीय तटरक्षक बल के साथ एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीेमें तैनात की गई हैं।

चक्रवात शाहीन के चलते गुजरात के तटीय इलाकों के प्रशासन ने मछुआरों को समुद्र तट पर न जाने की चेतावनी दी है। मौसम विभाग के अनुसार सौराष्ट्र, कच्छ, दीव और दादर नगर हवेली में 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की संभावना है। जानकारी के अनुसार आज तूफान डीप डिप्रेशन में बदल जाएगा, जिससे तटीय इलाकों में 45 से 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी। 1 अक्तूबर को शाहीन पूर्ण रूप से चक्रवात का रूप लेगा। तब प्रभावित इलाकों में 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार 2 अक्टूबर को शाहीन का प्रभाव चरम पर होगा। इस दौरान सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात सहित क्षेत्रों में 100 से 110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी।

चक्रवात की चेतावनी के बाद भारतीय तटरक्षक बल ने समुद्र में गए मछुआरों को वापस आने संकेत दे दिया है। ओखा और पोरबंदर सहित गुजरात तटरक्षक केन्द्रों को अलर्ट कर दिया गया है। इसके अलावा गुजरात के 17 जिलों में एनडीआरएफ-एसडीआरएफ की टीमों को तैनात किया गया है, पोरबंदर बंदरगाह पर सिग्नल नंबर 3 लगाया गया है। बारिश के बाद एनडीआरएफ की 20 टीमों में से 17 और एसडीआरएफ की 11 में से 8 टीमों को राज्य में तैनात किया गया है। एनडीआरएफ की 20 टीमों को सूरत, वलसाड, नवसारी, राजकोट, गिरसोमनाथ, अमरेली, भावनगर, जूनागढ़, जामनगर, पाटन, मोरबी, द्वारका, पोरबंदर, खेड़ा और गांधीनगर में तैनात किया गया है जबकि एसडीआरएफ टीमें राजकोट, जूनागढ़, जामनगर और खेड़ा में तैनात किया गया है।

गुजरात में गुलाब चक्रवात के प्रभाव से कई इलाकों में बारिश हुई है। अहमदाबाद समेत कई इलाकों में सुबह से ही तेज हवाएं चलने लगीं। इस बीच, गुजरात के अधिकांश हिस्सों में भारी से बहुत भारी बारिश के पूर्वानुमान को देखते हुए राज्य की आपदा प्रबंधन प्रणाली को अलर्ट कर दिया गया है।

बंगाल की खाड़ी में बने चक्रवाती तूफान से पिछले 24 घंटों में दक्षिण गुजरात, सौराष्ट्र और मध्य गुजरात के विभिन्न हिस्सों में भारी बारिश हुई है। राज्य के 196 तहसीलों में हल्की से भारी बारिश हुई। सौराष्ट्र के विसावदर में 10 इंच और गिरनार के जंगल में 12 इंच बारिश दर्ज की गई है।

Comments are closed.