मनी लाउंड्रिंग मामले में पूर्व मंत्री एनोस एक्का की संपत्ति अटैच

रांची। प्रवर्तन निदेशालय( ईडी ) ने पूर्व मंत्री एनोस एक्का की ओरमांझी के कोइलारी स्थित 6.25 लाख की संपत्ति को अटैच किया है। ईडी सूत्रों ने बुधवार को बताया कि ईडी की टीम ने एनोस एक्का कंस्ट्रक्शन की 6.25 लाख की संपत्ति को जब्त किया है। कोर्ट ने उनपर दो करोड़ रुपये का जुमार्ना भी लगाया है। ईडी की टीम ने कोइलारी स्थित खाता नंबर 62, प्लॉट नंबर 427, 428, 431, 432, एरिया 2 सात डिसमिल जमीन को जब्त किया है। पूर्व मंत्री मनी लॉन्ड्रिंग मामले में आरोपित हैं। एनोस पर 20 करोड़ 31 लाख 77 हजार रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है। उल्लेखनीय है कि आय से अधिक संपति के मामले में सीबीआई कोर्ट ने एनोस एक्का और उनके परिजनों को सात साल कैद की सजा सुनाई है। जिसके बाद सभी अभियुक्त होटवार जेल में हैं। बुधवार को ईडी की टीम ने एनोस एक्का कंस्ट्रक्शन जब्त किया है। आय से अधिक संपति के मामले में सीबीआई कोर्ट ने एनोस एक्का और उनके परिजनों को सात साल कैद की सजा सुनाई है। इसके बाद सभी अभियुक्त होटवार जेल में हैं। ईडी की ओर से पहले भी एनोस एक्का के रांची, दिल्ली, सिमडेगा स्थित संपतियों को जब्त किया जा चुका है।

मालूम हो कि साल 2005 में पहली बार कोलेबिरा से विधायक बनने के बाद एनोस एक्का अर्जुन मुंडा के नेतृत्व में बनी सरकार में कैबिनेट मंत्री बने थे। इसके बाद दोबारा मधु कोड़ा की सरकार में भी मंत्री थे।

साल 2009 में एनोस एक्का के खिलाफ सीबीआई ने आय से अधिक संपति का मामला दर्ज किया था। सीबीआई की चार्जशीट के आधार पर ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया था। साल 2020 में सीबीआई की कोर्ट ने एनोस एक्का और उनकी पत्नी मेनोन एक्का सहित परिवार के छह लोगों को सात साल कैद की सजा सुनाई थी। सजा सुनाये जाने के बाद वर्ष 2020 से ही अभियुक्त होटवार स्थित बिरसा मुंडा सेट्रल जेल में है। पूर्व मंत्री एनोस एक्का को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सात साल की सजा हुई है।

Comments are closed.