राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत चार दिवसीय प्रवास पर पहुंचे जोधपुर

जोधपुर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत चार दिन के प्रवास पर गुरुवार दोपहर जोधपुर पहुंचे। नेहरू पार्क स्थित हेडगेवार भवन में संघ के स्थानीय अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। कोरोना काल के पश्चात यह पहला अवसर है जब सर संघचालक जोधपुर आए हैं।

सर संघचालक मोहन भागवत अपने जोधपुर प्रवास में राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ जोधपुर की प्रांत टोली, जागरण श्रेणी, संगठन श्रेणी, अनुसार प्रांतीय कार्यकर्ताओं की बैठक, प्रांत के सभी प्रचारकों की बैठक, महानगर के कार्यकर्ताओं का प्रबोधन, चयनित गणमान्य व्यक्तियों की संपर्क सूची से संवाद आदि करेंगे। एयरपोर्ट से सीधे वे संघ कार्यालय हेडगेवार भवन गए. जहां पर संघ के अधिकारियों ने उनका स्वागत किया।

जोधपुर प्रांत के संघचालक हरदयाल वर्मा ने बताया कि संघ प्रमुख मोहन भागवत का गुरुवार को कोई विशेष कार्यक्रम नहीं है। उनके कार्यक्रम शुक्रवार से प्रारंभ होंगे। शुक्रवार को संगठन और जागरण श्रेणी के कार्यकर्ताओं की बैठकें होंगी और प्रबोधन भी होगा। सभी कार्यक्रम हेडगेवार भवन में ही आयोजित किए जाएंगे। भागवत 25 सितंबर को संघ के प्रचारकों की बैठक लेंगे, जिसमें संघ की शाखाओं के कार्य, कार्यकर्ताओं की देखरेख और विभिन्न गतिविधियों की समीक्षा सहित अन्य पर बात होगी। 26 सितंबर को संघ प्रमुख बाड़मेर में पद्मश्री लोक कलाकार अनवर खान से मिलने के लिए जाएंगे। वे 27 सितंबर को जोधपुर शहर के प्रबुद्धजनों के साथ संवाद करेंगे। इसके बाद वे जोधपुर से प्रस्थान करेंगे। संघ प्रमुख केवल दायित्ववान कार्यकर्ताओं को ही संबोधित करेंगे।

संघ की शाखाओं के कार्य व कार्यकर्ताओं की देखरेख, विभिन्न गतिविधियों की समीक्षा, कार्यकर्ताओं का प्रशिक्षण, समाज के विभिन्न गणमान्य व प्रबुद्ध जनों से संवाद संपर्क, योजना लेकर देश के सभी प्रांतो में सर संघचालक या सर कार्यवाह का प्रवास होता है। उसी कड़ी में भागवत का यह दौरा भी माना जा रहा है। चार दिवसीय प्रवास के दौरान भागवत मैदान पर आरंभ हुई सभी शाखाओं की स्थिति, दूसरी लहर में प्रभावित समाज जनों को स्वयंसेवकों द्वारा आवश्यक संबल प्रदान कार्यों की समीक्षा भागवत करेंगे। साथ ही वे संभावित स्थिति पर कार्यकर्ता प्रशिक्षण, शाखाओं के विस्तार व शाखा कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण योजना के अलावा स्वयंसेवकों द्वारा चलाए जा रहे पर्यावरण, जल संरक्षण, पौधरोपण, ग्राम विकास, कुटुंब प्रबोधन गो संवर्धन के कार्यों पर चर्चा व समीक्षा करेंगे।

Comments are closed.