पैसों वाली ‘पूजा’ : खनन मामले में भ्रष्टाचार की खान में इडी का धमाका

आइएएस पूजा सिंघल और करीबियों के यहां छापा, 20 करोड़ बरामद

प्रशांत झा
रांची। प्रवर्तन निदेशालय (इडी) ने शुक्रवार सुबह झारखंड में भ्रष्टाचार की ‘खान’ पर धावा बोला। इडी की टीम ने सुबह करीब छह बजे आइएएस पूजा सिंघल के रांची स्थित सरकारी आवास समेत 20 ठिकानों पर एक साथ छापा मारा। पूजा सिंघल वर्ष 2000 बैच की आइएएस अधिकारी हैं। वर्तमान में झारखंड सरकार में खान और उद्योग विभाग की सचिव और झारखंड राज्य खनिज विकास निगम लिमिटेड (जेएसएमडीसी) की प्रबंध निदेशक हैं। इडी सूत्रों के मुताबिक, पूजा सिंघल और उनके करीबियों के घर से खबर लिखे जाने तक लगभग 20 करोड़ रुपये नकद बरामद हुए हैं। इसके अलावा जमीन, मकान, निवेश से संबंधित कागजात, शैल कंपनियों की जानकारी समेत कई अहम कागजात हाथ लगे हैं। उधर, पूजा सिंघल के पति अभिषेक झा के घर पर भी छापा मारा गया। वहां से 1.8 करोड़ रुपये नकद मिलने की सूचना है। पूजा सिंघल के चार्टर्ड अकाउंटेंट (सीए) सुमन नायक के यहां भी छापा मारा गया। उनके यहां से 17.1 करोड़ रुपये मिलने की सूचना है। साथ ही बिहार के मुजफ्फरपुर स्थित पूजा सिंघल की ससुराल में भी छापा मारा गया। उनके ससुर को मधुबनी से गिरफ्तार किये जाने की सूचना है।
लंबे समय से पूजा थीं रडार पर : आइएएस पूजा सिंघल इडी के रडार पर लंबे समय से थीं। जानकारी के मुताबिक, खूंटी जिले में मनरेगा में 18.06 करोड़ रुपये के घोटाले के वक्त वहां की डीसी पूजा सिंघल थीं। इस मामले में वहां के जूनियर इंजीनियर राम विनोद प्रसाद सिन्हा गिरफ्तार कर जेल भेजे गये थे। उहोंने इडी को दिये अपने बयान में यह स्वीकार किया था कि कमीशन की राशि उपायुक्त कार्यालय तक पहुंचती थी। पूजा सिंघल चतरा जिले में अगस्त 2007 से जून 2008 तक डीसी थीं। आरोप है कि उन्होंने दो एनजीओ को मनरेगा के तहत अग्रिम भुगतान किया था। इसके अलावा यह भी आरोप है कि पलामू जिला में डीसी रहते हुए पूजा सिंघल ने करीब 83 एकड़ वन भूमि को निजी कंपनी उषा मार्टिन को खनन के लिए ट्रांसफर किया था। यह कठौतिया कोल माइंस से जुड़ा मामला है। इडी ने हाइकोर्ट में शपथ पत्र दिया था। इन मामलों में जांच जारी है। सूत्रों के मुताबिक खनन मामला समेत इन सभी मामलों को समेटते हुए इडी ने शुक्रवार को आइएएस अधिकारी पूजा सिंघल के यहां छापामारी शुरू की है।
20 ठिकानों पर छापा : इडी की टीम ने आइएएस अधिकारी पूजा सिंघल के सरकारी आवास और उनके पति अभिषेक झा के आवास समेत कई जगहों पर छापामारी की है। इडी ने झारखंड के रांची, धनबाद, खूंटी, राजस्थान के जयपुर, हरियाणा के फरीदाबाद और गुरुग्राम, पश्चिम बंगाल के कोलकाता, बिहार के मुजफ्फरपुर और दिल्ली-एनसीआर में छापे मारे हैं। इनमें पूजा सिंघल के भाई व मां-पिता के आवास, कोलकाता में सीए के एंट्री आॅपरेटर रौनक और प्राची अग्रवाल, राजस्थान में पूर्व असिस्टेंट इंजीनियर राजेंद्र कुमार जैन के जयपुर स्थित आवास भी शामिल हैं।

नोटों की गिनती के लिए मंगायी गयी मशीन : सूत्रों के मुताबिक पूजा सिंघल और उनके करीबियों के आवास से भारी मात्रा में नकद बरामद हुए हंै। बताया जा रहा है कि अब तक 20 करोड़ रुपये से ज्यादा नकद बरामद हुए हैं। नोटो की गिनती के लिए तीन मशीनों का सहारा लेना पड़ा। पूजा सिंघल के करीबी सीए सुमन नायक के घर से 17 करोड़ रुपये नकद मिलने की सूचना है। साथ ही आठ करोड़ रुपये की अचल संपत्ति मिलने की खबर है। इडी ने चार स्टील के बक्से मगांये, जिनमें नोटों को भरा गया। इसी तरह उनके पति अभिषेक झा के यहां भी इडी को नोटों की गिनती करने के लिए मशक्कत करनी पड़ी। वहां से भी 1.8 करोड़ रुपये मिलने की सूचना है।
ससुर को किया गया गिरफ्तार : पूजा सिंघल ने पहले आइएएस अधिकारी राहुल पुरवार से शादी की थी। उनसे तलाक के बाद बिहार के रहनेवाले अभिषेक झा से शादी की थी। अभिषेक झा के रांची में रातू रोड स्थित एक ठिकाने पर इडी के अधिकारी जांच कर रहे है। इडी ने छापेमारी में उनके घर से दस्तावेज जब्त किये हैं। इतना ही नहीं इडी की टीम ने अभिषेक झा के पैत्रिक आवास पर भी छापा मारा है। अभिषेक झा का परिवार मूल रूप से बिहार के दरभंगा का रहनेवाला है, लेकिन पूजा के ससुर कामेश्वर झा मुजफ्फरपुर में रहते हैं। यहां भी इडी की छापेमारी हुई है। उनके ससुर कामेश्वर झा से इडी पूछताछ कर रही है। उनको गिरफ्तार किये जाने की भी सूचना है।

पूजा सिंघल होंगी सस्पेंड!
आइएएस पूजा सिंघल के यहां इडी छापे के बाद आगे क्या होगा, यह एक अहम सवाल है। जानकारों के मुताबिक इडी सारे जब्त कागजातों की जांच करेगी। पूजा सिंघल और उनके करीबियों का बयान दर्ज किया जायेगा। पूजा के पास आय से कितनी अधिक संपत्ति है, इडी इसका आकलन करेगी। उनके खिलाफ मामला दर्ज किया जायेगा। अदालत में केस होगा। इसके बाद कोर्ट क्या फैसला लेती है इस पर सारा कुछ निर्भर करता है। जानकारों की मानें तो राज्य सरकार तत्काल पूजा सिंघल को सस्पेंड करेगी और अग्रतर कार्रवाई के लिए केंद्र को भेजेगी। उधर, इडी पूजा सिंघल को पूछताछ के लिए गिरफ्तार भी कर सकती है। चर्चा यह भी है कि जिस तरह से अकूत राशि बरामद हुई है, इस मामले में आयकर विभाग की भी इंट्री हो सकती है। खबर लिखे जाने तक इडी की कार्रवाई जारी थी।

इडी का इन जगहों पर छापा
-झारखंड में रांची, खूंटी और धनबाद
-बिहार में मुजफ्फरपुर
-राजस्थान में जयपुर
-हरियाणा में फरीदाबाद और गुरुग्राम
-पश्चिम बंगाल में कोलकाता
-दिल्ली-एनसीआर में अलग-अलग जगहों पर

रांची में इन जगहों पर छापा
-पूजा सिंघल का सरकारी आवास
-पति अभिषेक झा का आवास
-कांके रोड के चांदनी चौक स्थित पंचवटी रेजिडेंसी
-लालपुर के हरिओम टावर स्थित नयी बिल्डिंग
-बरियातू के पल्स अस्पताल
-कोकर स्थित हनुमान नगर

राज्य में जारी राजनीतिक घमासान के बीच मुख्यमंत्री की दो टूक, कहा- देश में संविधान है, कानून है इसके बाहर कोई नहीं जा सकता

इडी की छापेमारी गीदड़ भभकी : हेमंत सोरेन
रांची। सूबे में चल रहे राजनीतिक घमासान के बीच मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन लगभग एक सप्ताह के बाद मीडिया से मुखातिब हुए। मुख्यमंत्री अपनी मां के इलाज के क्रम में पांच दिनों से हैदराबाद में थे। गुरुवार को वह रांची लौटे हैं और शुक्रवार दोपहर बाद प्रोजेक्ट बिल्डिंग स्थित झारखंड मंत्रालय में लगभग तीन घंटे तक बैठे और कई संचिकाओं का निष्पादन किया। मंत्रालय से निकलने के क्रम में उन्होंने मीडिया के कई सवालों का बेबाकी से जवाब दिया।

भाजपा लाख तिकड़म भिड़ा ले, हमारी सरकार अपना कार्यकाल हर हाल में पूरा करेगी
सीएम ने साफ कहा कि 20 वर्षों के बाद सत्ता हाथ से जाने के बाद भाजपा बौखला गयी है। राज्य की जनता ने न सिर्फ भाजपा को सत्ता से ही बेदखल किया है, बल्कि सबसे बड़े दल का तमगा भी छीन लिया है। अब भाजपा येन केन प्रकारेण सत्ता प्राप्त करने की जुगत लगा रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा लाख तिकड़म भिड़ा ले, हमारी सरकार अपना कार्यकाल हर हाल में पूरा करेगी। भाजपा का मंसूबा कभी सफल नहीं होगा।
भाजपा का हाल हारे हुए बच्चे की तरह
सीएम ने कहा कि भाजपा जब राजनीति के मैदान में नहीं टिक सकती है, तो संवैधानिक संस्थाओं का दुरुपयोग करती है। भाजपा आज जिस तरह की राजनीतिक परिभाषा देश में गढ़ रही ह, वह देश हित में नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा का हाल उस हारे हुए बच्चे की तरह है, जो मैदान में मैच हार जाने के बाद विकेट और बॉल लेकर भाग जाता है।

संविधान कानून से कोई बाहर नहीं
इडी की छापेमारी पर मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में संविधान है, कानून है इससे बाहर कोई नहीं है। उन्होंने कहा कि इडी की छापेमारी गीदड़ भभकी है। इससे बाहर जो जाता है, वह भुगतता है। हम इससे डरनेवाले नहीं हैं। उन्होंने कहा कि चिंता नहीं करें, सरकार मजबूती से काम करेगी। हम अपना अधिकार लेकर रहेंगे। उन्होंने कहा कि वो दिन दूर नहीं, जब सरपंच, मुखिया तक इडी की जांच होगी। उन्होंने कहा कि जेपीएससी की कई परीक्षाओं की जांच सीबीआइ कर रही है, क्या हुआ ? कहां गयी उनकी सबसे विश्वसनीय संस्था।

चुनाव आयोग को इतनी जल्दबाजी क्यों
एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि आखिर चुनाव आयोग को इतनी जल्दी क्या है। यह सवाल तो चुनाव आयोग से होना चाहिए हम क्या बोलेंगे। उन्हें क्यों इतनी जल्दबाजी है यह तो आप लोग चुनाव आयोग से पूछिए। उन्होंने कहा कि हम अपवाद नहीं हैं। जहां-जहां भाजपा की सरकार नहीं है वहां ऐसे ही हो रहा है। भाजपा का उद्देश्य सभी जानते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.