बिट्टा कराटे के मामले की सुनाई 10 मई तक टली

कश्मीर में हिंदुओं की हत्या करने के आरोपित फारूक डार उर्फ बिट्टा कराटे के मामले की सुनवाई 10 मई तक टाल दी गई है। नरसंहार के 31 साल बाद बिट्टा कराटे के खिलाफ दायर केस दोबारा खोलने की मांग को लेकर स्वर्गीय सतीश टिक्कू के परिजनों की याचिका पर शनिवार को सुनवाई होनी थी।

उल्लेखनीय है कि सतीश टिक्कू की हत्या भी उसी नरसंहार के दौरान बिट्टा कराटे ने की थी। अलगाववादी संगठन जेकेएलएफ का नेता बिट्टा कराटे ने वर्ष 1991 में एक चैनल को दिए गए इंटरव्यू में यह बात कबूल की थी कि उसने कश्मीर में 20 हिंदुओं की हत्या की। उसने यह बात भी बात मानी थी कि उसने इन हत्याओं का सिलसिला अपने ही दोस्त सतीश टिक्कू की हत्या के साथ किया था।

Comments are closed.