रूपेश के परिजनों ने विधायक उमाशंकर अकेला को लौटाये पचास हजार रुपये

कहा: मदद ही करनी है, तो हत्यारों को मत दीजिए संरक्षण उनकी गिरफ्तारी में बाधक मत बनिये

हजारीबाग। जिला के बरही थाना क्षेत्र के नयीटांड़ निवासी सिकंदर पांडेय के पुत्र रूपेश पांडेय की मॉब लिंचिंग में 6 फरवरी को सरस्वती पूजा के समय हत्या कर दी गयी थी। उस समय से परिवार न्याय के लिए भटक रहा है। बरही के कांग्रेस विधायक उमाशंकर अकेला ने उस समय पचास हजार रुपये देकर परिवार की आर्थिक मदद की थी। परिजनों ने यह राशि उन्हें लौटा दी है और उनसे यह गुहार लगायी है कि वह हत्यारों को संरक्षण देना बंद करें। अगर मदद करनी है तो हत्यारों को गिरफ्तार करवाने में मदद करें। परिजनों ने यह पैसा उमाशंकर अकेला के कार्यालय में जाकर लौटाया। पैसा लौटाते वक्त परिजन रो-रोकर यह गुहार लगा रहा था कि हत्यारों को कृपा करके मत बचाइये। उन्हें गिरफ्तार करवाइये। बता दें कि मॉब लिंचिंग के खिलाफ परिजनों ने 26 लोगों के खिलाफ नामजद मामला दर्ज कराया था, जिसमें पांच लोग ही उस समय पकड़े गये थे। अब भी  21 आरोपी छुट्टा घूम रहे हैं। परिजनों का आरोप है कि उन्हें राजनीतिक संरक्षण प्राप्त हो रहा है।

 

Comments are closed.