झारखंड में मैट्रिक-इंटर की परीक्षा 24 मार्च से, सात लाख परीक्षार्थी होंगे शामिल

उपायुक्त ने मैट्रिक और इंटरमीडियट परीक्षा के सफल संचालन को लेकर की बैठक

झारखंड एकेडमिक काउंसिल (जैक) के तहत मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षा 24 मार्च शुरू हो रही है। इस परीक्षा में करीब सात लाख परीक्षार्थी शामिल हो रहे हैं। इस परीक्षा को लेकर सभी तैयारी करीब-करीब पूरी हो गयी है। वहीं, इस बार दिव्यांग परीक्षार्थियों के लिए अलग से परीक्षा सेंटर की व्यवस्था की जा रही है।

मैट्रिक और इंटरमीडिएट परीक्षा के सफल संचालन को लेकर सोमवार को रांची डीसी छवि रंजन की अध्यक्षता में बैठक आयोजित हुई। इस बैठक में परीक्षा के सफल संचालन को लेकर जिला शिक्षा पदाधिकारी ने झारखंड अधिविद्य परिषद, रांची द्वारा जारी निर्देशों की जानकारी दी। इस पर डीसी ने आवश्यक दिशा-निर्देश देते हुए जैक द्वारा जारी निर्देशों को पालन करने की बात कही।

रांची में मैट्रिक के लिए 105 और इंटरमीडिएट के लिए 57 परीक्षा केंद्र

मैट्रिक एवं इंटरमीडियट परीक्षा के लिए रांची जिले में क्रमशः 105 और 57 परीक्षा केंद्र बनाये गये हैं। इस वर्ष वार्षिक माध्यमिक परीक्षा (मैट्रिक) में 36,183 और इंटरमीडिएट परीक्षा में 34,926 परीक्षार्थी शामिल हो रहे है। वहीं, रांची डीसी ने परीक्षा केंद्रों में ससमय प्रश्न पत्र एवं उत्तर पुस्तिका पहुंचाने के लिए सभी तैयारी पूर्व में ही पूर्ण कर लेने का निर्देश दिया।

सीसीटीवी कैमरे की जांच कर लें

बैठक में जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला के सभी परीक्षा केन्द्राधीक्षक एवं अन्य संबधित पदधिकारी उपस्थित थे। उपायुक्त ने सभी केंद्र अधीक्षकों से कहा कि अपने केंद्र में लगे सभी सीसीटीवी कैमरे की जांच कर लें कि वह कार्य कर रहे हैं या नहीं। कैमरे खराब होने की जानकारी जिला शिक्षा पदाधिकारी को दें। स्वच्छ वातावरण में निष्पक्ष एवं कदाचार मुक्त परीक्षा हम सभी की जिम्मेदारी है। किसी भी स्थिति में कदाचार की सूचना नहीं मिलनी चाहिए। औचक निरीक्षण के दौरान अगर कदाचार करते परीक्षार्थी पाए गए तो सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा परीक्षा के लिए प्रतिनियुक्त स्टैटिक एवं पेट्रोलिंग मजिस्ट्रेट विभागीय निर्देशों के अनुरूप कदाचार मुक्त ढंग से परीक्षा का संचालन सुनिश्चित कराएं।

परीक्षा केंद्रों में कर्मचारियों का आईडी कार्ड होना अनिवार्य

परीक्षा केंद्रों में कार्य करने वाले पदाधिकारी एवं अन्य कर्मचारियों का आईडी कार्ड होना अनिवार्य है। किसी भी परिस्थिति में अनाधिकृत व्यक्ति का प्रवेश परीक्षा केंद्र में ना हो। अगर ऐसा होता है तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।

कोविड टीकाकरण सर्टिफिकेट जांच करें

उन्होंने कोविड-19 प्रोटोकॉल ध्यान रखते हुए परीक्षार्थियों के बैठने की व्यवस्था करने की बात कही। उन्होंने कहा कि अगर किसी परीक्षार्थी में कोविड-19 के लक्षण दिखते हैं तो उनके लिए अलग रूम में एग्जाम की व्यवस्था करें और इसकी जानकारी कंट्रोल रूम को दें। उपायुक्त ने कहा कि सभी केंद्र अधीक्षक परीक्षा कार्य में लगे सभी लोगों का कोविड टीकाकरण सर्टिफिकेट जांच करें। बिना कोविड-19 वैक्सीनेशन के परीक्षा कार्य में लगे पदाधिकारी, कर्मी के खिलाफ डीएम एक्ट के तहत कार्रवाई की जायेगी।

Comments are closed.