प्रमोद सावंत के शपथ ग्रहण समारोह में ऐतिहासिक रही प्रधानमंत्री मोदी की मौजूदगी

शपथग्रहण समारोह में भाजपा के 7 मुख्यमंत्री भी रहे उपस्थित
प्रमोद सावंत दूसरी बार बने राज्य के मुख्यमंत्री

पणजी। गोवा के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री डॉ. प्रमोद सावंत ने सोमवार को पद और गोपनीयता की शपथ ली। राज्यपाल पीएस श्रीधरन पिल्लई ने सावंत को शपथ दिलाई। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और 7 राज्यों के मुख्यमंत्री भी उपस्थित रहे। गोवा के इतिहास में पहली बार कोई प्रधानमंत्री इस तरह के शपथग्रहण समारोह में शामिल हुए हैं।

मुख्यमंत्री डॉ. प्रमोद सावंत ने शपथ ग्रहण समारोह से पहले राज्यपाल पीएस श्रीधरन पिल्लई को विधायकों की सूची सौंपी थी। इस सूची में विधायक विश्वजीत राणे, मूविन गुडिन्हो, विधायक रवि नाइक, नीलेश काबराल, सुभाष शिरोडकर, रोहन खानवटे, गोविंद गावड़े और अतानासियो उर्फ बाबुश मोनसेराट शामिल हैं। विश्वजीत राणे को मंत्रिमंडल में दूसरा सबसे अहम पद मिलने की संभावना है। खास बात यह है कि एमजीपी के सुदीन ढवलीकर और निर्दलीय विधायक एलेक्स रेजिनाल्ड लॉरेंस के साथ ही डॉ. शपथ लेने वाले विधायकों की सूची से चंद्रकांत शेट्टी का नाम गायब हो गया है। चर्चा चल रही थी कि तीनों को कैबिनेट पद मिलेगा। सुदीन ढवलीकर के नाम का अभी भी भाजपा नेता और कार्यकर्ता विरोध कर रहे हैं। इसलिए सभी की निगाहें इस बात पर टिकी हैं कि क्या इन नामों को कैबिनेट की बची हुई सीटों पर मौका मिलेगा या फिर बीजेपी अलग खेल खेलेगी। फिलहाल गोवा कैबिनेट में किसी महिला को जगह नहीं दी गई है।

गोवा विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 40 में से 20 सीटों पर जीत हासिल की है। तीन निर्दलीय विधायकों के समर्थन से मागोप ने भी भाजपा का समर्थन किया। गोवा विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के 18 दिन बाद मुख्यमंत्री का शपथ ग्रहण समारोह हुआ है। गोवा में शिग्मोत्सव (होली पर्व) और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के व्यस्त कार्यक्रम के कारण शपथ ग्रहण समारोह में देरी हुई है। बहरहाल, इस शपथग्रहण समारोह के बाद प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर गोवा के मुख्यमंत्री को बधाई दी है। अपने बधाई संदेश में प्रधानमंत्री ने विश्वास जताया कि डॉ. प्रमोद सावंत बतौर मुख्यमंत्री गोवा के सुशासन को बरकरार रखेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि सावंत के नेतृत्व में राज्य के विकास को बढ़ावा दिया जाएगा।

Comments are closed.