एन बीरेन सिंह दूसरे कार्यकाल के लिए मणिपुर के मुख्यमंत्री चुने गये

इंफाल। हाल ही में 60 सदस्यीय 12वीं मणिपुर विधानसभा के लिए हुए चुनाव के बाद रविवार को मुख्यमंत्री पद के लिए नोंगथोम्बम बीरेन सिंह के नाम पर मुहर लग गई। भाजपा विधायकों की आज हुई बैठक में सर्व सहमति से एन बीरेन सिंह को मुख्यमंत्री के रूप में दूसरे कार्यकाल के लिए चुना गया है।

इंफाल स्थित पार्टी कार्यालय, थंबल शांगलेन, नित्यिपत चुथेक में भाजपा नेताओं के साथ बंद कमरे में बैठक के बाद केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राज्य में बनने वाली नई भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री के रूप में एन बीरेन सिंह के नाम की बहुप्रतीक्षित घोषणा की। विधायक दल के नेता की घोषणा के बाद एन बीरेन सिंह को सीतारमण, रिजिजू समेत अन्य नेताओं ने फूलों का गुलदस्ता भेंटकर स्वागत किया। इस मौके पर सभी चुने हुए विधायकों ने भी नेता को अपनी शुभकामनाएं दीं।

सीतारमण ने सीएम के नाम की घोषणा के तुरंत बाद मीडियाकर्मियों से कहा, “प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में बीरेन सिंह को दूसरी बार मणिपुर के मुख्यमंत्री के रूप में नियुक्त करने का निर्णय मणिपुर को स्थिरता और चुनाव जीतने वाले विधायकों के साथ मिलकर सुशासन प्रदान करने में एक लंबा रास्ता तय करेगा, क्योंकि मणिपुर के लोग बहुमत वाली भाजपा सरकार चुनकर भरोसा करने और समर्थन देने में बहुत अच्छे रहे हैं।”

केंद्रीय मंत्री ने मणिपुर के लोगों को भाजपा को प्रदान किए गए विश्वास और समर्थन के लिए धन्यवाद दिया और मणिपुर के लोगों को भाजपा शासन के तहत सुशासन का आश्वासन दिया। सीतारमण ने कहा, “मैंने मणिपुर के लोगों को धन्यवाद दिया और मैं आश्वासन देती हूं कि एक बहुत अच्छी सरकार होगी जो मणिपुर के सभी लोगों के लाभ के लिए चलेगी और यह सुनिश्चित करेगी कि सभी को शासन की प्रक्रिया में शामिल किया जाए।”

केंद्रीय कानून और न्याय मंत्री किरेन रिजिजू के साथ सीतारमन रविवार को भाजपा विधायक नेता के चुनाव के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षक के रूप में इंफाल पहुंचीं। सुबह 11 बजे आने वाली फ्लाइट एक घंटे से ज्यादा देरी से दोपहर 12.11 बजे लैंड हुई। भाजपा के दो केंद्रीय नेताओं के साथ इंफाल पहुंचने वालों में मणिपुर के कार्यवाहक मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह और राज्य के विधायक टीएच बिस्वजीत और वाई खेमचंद भी थे, जिन्हें शनिवार को केंद्रीय नेतृत्व ने नई दिल्ली बुलाया गया था। उनके साथ भूपेंद्र यादव, संबित पात्रा, कर्मा एसजेड ल्हासुंगा, सोनम गेचेन अंगोला और सांसद लीशेम्बा सनाजोबा सहित पार्टी के अन्य नेता भी थे।

उल्लेखनीय है कि टीएच बिस्वजीत सिंह भी मुख्यमंत्री के प्रबल दावेदारों में से एक माने जा रहे थे, जिसके चलते नेता के चुनाव में देरी हुई। माना जा रहा है कि बिस्वजीत सिंह को उप मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है।भाजपा ने हाल ही में हुए 12वीं राज्य विधान सभा 2022 के आम चुनावों में 60 में से 32 विधानसभा सीटों पर जीत हासिल करके भारी जीत के साथ इतिहास रच दिया।

बीरेन सिंह ने हिंगांग विधानसभा क्षेत्र की विधायक सीट को रिकॉर्ड पांचवीं बार बरकरार रखा, उन्होंने अपने प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस उम्मीदवार पी शरतचंद्र को 18,271 मतों से हराया। निर्वाचन क्षेत्र में प्राप्त कुल 31,596 मतों में से, बीरेन को 24,814 मत (78.54 प्रतिशत) प्राप्त हुए, जबकि शरतचंद्र को 6,543 मत (20.71 प्रतिशत) प्राप्त हुए। बीरेन ने मणिपुर में पहली भाजपा नीत सरकार के पिछले पांच वर्षों में पूर्व मुख्यमंत्री ओकराम इबोबी सिंह के नेतृत्व वाले कांग्रेस शासन को उखाड़ फेंका, जो राज्य में 15 साल तक चला था।

Comments are closed.