झारखंड में मैट्रिक और इंटर परीक्षा की तैयारी पर लग सकता है ग्रहण

झारखंड एकेडमिक काउंसिल (जैक) की मैट्रिक और इंटर परीक्षा की तैयारी पर ग्रहण लग सकता है। मैट्रिक-इंटर परीक्षा के करीब सात लाख परीक्षार्थियों की किस्मत जैक की तैयारी पर टिकी है।

जानकारी के अनुसार 24 मार्च से होने वाली बोर्ड परीक्षा को लेकर जैक की अभी तक बोर्ड की बैठक नहीं हो पायी है, जिससे परीक्षा संबंधी तैयारी पूरी नहीं हो सकी है। यहां तक कि परीक्षा संबंधी बजट को लेकर भी कोई अहम फैसला नहीं हो पाया है। बोर्ड परीक्षा को लेकर नीतिगत निर्णय भी नहीं लिया जा पा रहा है। इस संबंध में जैक अध्यक्ष अनिल कुमार महतो कहते हैं कि जब तब बोर्ड की बैठक नहीं होती तब तक सभी निर्णय लेने में समय लगेगा। बैठक के बिना परीक्षा को लेकर बजट का निर्धारण नहीं हो पा रहा है।

मैट्रिक-इंटर की परीक्षा 24 मार्च से शुरू

जैक मैट्रिक-इंटर की परीक्षा 24 मार्च से शुरू हो रही है। परीक्षा दो टर्म में संचालित होनी है। पहली बार दो टर्म की परीक्षा एक ही बार में आयोजित की जा रही है। इसके बाद बजट का भार बढ़ा है और चार गुणा तक बजट बढ़ने का अनुमान लगाया जा रहा है। हालांकि, कई गोपनीय कार्य शुरू भी हो चुके हैं लेकिन बड़े निर्णय के लिए बोर्ड की बैठक होना अनिवार्य है। इस कारण अभी तक परीक्षा को बेहतर तरीके से आयोजित करने पर रणनीति पूरी नहीं हो सकी है।

उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष कोरोना की वजह से बिना परीक्षा दिए ही बच्चों को पास कर दिया गया था।

बोर्ड के लिए होना चाहिए 19 सदस्य, अभी कुल सात सदस्य

बोर्ड के लिए जरूरी है कि इसमें सदस्यों की संख्या 19 हो लेकिन अभी इसमें सात सदस्य ही मौजूद हैं, जबकि बैठक के लिए कम से कम आठ सदस्यों की जरूरत होनी चाहिए। अभी जो जैक की स्थिति है उसमें बोर्ड सदस्यों में तीन एमएलए, एक जेसीइआरटी, एक विभागीय निदेशक, एक-एक चेयरमैन व जैक उपाधीक्षक शामिल हैं। अभी कुल सात सदस्य हैं, जिसमें सिर्फ एक सदस्य की नियुक्ति अगर होती है तो बैठक की दिशा साफ हो जाएगी।

उल्लेखनीय है कि पिछली रघ़ुवर दास की सरकार में सदस्यों की नियुक्ति के लिए सारी प्रक्रिया पूरी हुई थी लेकिन अभी तक किसी की नियुक्ति नहीं हो पायी, ना ही लिस्ट जारी हुई।

Comments are closed.