अंबा प्रसाद ने होमगार्ड के मामले को विधानसभा में उठाया

जिला समादेष्टा कार्यालय की रक्षा वाहिनी हजारीबाग की ओर से होमगार्ड बहाली के लिए विज्ञापन संख्या 1/19 के तहत हजारीबाग जिले में गृह रक्षकों के नामांकन का मामला विधानसभा के पटल पर विधायक अंबा प्रसाद ने उठाया। अंबा प्रसाद ने सदन का ध्यान आकृष्ट कराते हुए कहा कि होमगार्ड अभ्यर्थियों के लिखित शारीरिक एवं तकनीकी जांच परीक्षा के उपरांत जारी की गई औपबंधिक सूची जिसमें उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक, एवं होमगार्ड के अधिकारियों के दस्तखत थे, कथित धांधली का हवाला देकर उसे अकेले ही जिला उपायुक्त के द्वारा पूरे विज्ञापन को निरस्त कर दिया गया जो कि असंवैधानिक है।

उन्होंने सदन का ध्यान आकृष्ट कराते हुए कहा कि विगत ढाई महीने से होमगार्ड के अभ्यर्थी धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। लेकिन अधिकारी असंवेदनशील है। अंबा प्रसाद ने जल्द नियुक्ति प्रक्रिया पूर्ण कर अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र दिलाने की मांग की और निरस्त की गई औपबंधिक मेधा सूची एवं विज्ञापन के आलोक में जिला उपायुक्त पर कार्रवाई करने की मांग विधानसभा में की।

प्रभारी मंत्री आलमगीर आलम ने यह आश्वस्त किया कि सरकार गृह रक्षकों के नामांकन की प्रक्रिया पूर्ण कराने को लेकर संवेदनशील है और यथाशीघ्र झारखंड गृह रक्षक स्वयं सेवक नियमावली 2014 के प्रावधानों के अनुसार नामांकन की कार्रवाई पूर्ण की जाएगी।

Comments are closed.